बुजुर्ग न लें टेंशन, एप से करें शिकायत

बुजुर्गो को भी दैनिक जीवन में कई चीजों की जरूरत रहती है लेकिन अत्याचार और मानसिक प्रताड़ना के बढ़ते मामले के कारण वे बेहद अकेले होते जा रहे हैं। इन्हीं बातों का ध्यान में रखते हुए हेल्प एज इंडिया की ओर से हेल्प एज एसओएस एप मंगलवार को लांच किया गया। बीआईए सभागार में आयोजित कार्यक्रम में हेल्प एज इंडिया के स्टेट हेड गिरीश चंद्र मिश्र, बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव ओमप्रकाश, फेडरेशन ऑफ सीनियर सिटीजन एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रो। बीएन सिंह ने इस एप की आवश्यकता और समाज में बुजुर्गो की स्थिति के बारे में अपने विचार रखे। यह जीपीएस बेस्ट प्रोग्राम है।

कानून को जाने, अत्याचार से बचें

बिहार राज्य विधिक सेवा के संयुक्त सचिव एमएन तिवारी ने कहा कि बुजुर्गो या सिनीयर सिटीजन को अपने अधिकारों और इसकी रक्षा के बारे में कानूनी जानकारी होनी चाहिए। फेडरेशन ऑफ सीनियर सिटीजन ऑफ बिहार के अध्यक्ष प्रो। बीएन सिंह ने कहा कि जब तक आमजन में सीनियर सिटीजन और युवा के बीच संवाद नहीं होगा तब तक वे अकेलेपन का हल नहीं ढूढ़ पाएंगे। उन्होंने बताया कि सीनियर सिटीजन के लिए मेनटेनेंस पाने के लिए जो ट्राइब्यूनल बनाया गया है उसमें सुधार की जरूरत है।

एप दबाते ही हेल्पलाइन से हेल्प

यह चौबीसो घंटे काम करेगा। इसमें हेल्पलाइन नंबर याद रखने की जरूरत नहीं क्योंकि एप का बटन दबाते ही हेल्पलाइन नंबर से कॉल लग जाएगी। इसके माध्यम से बुजुर्ग न केवल अपने खिलाफ हो रहे अत्याचार की शिकायत कर सकते हैं बल्कि अन्य सुविधा के बारे में भी जान सकेंगे। जैसे कि स्वास्थ्य और सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के बारे में। गिरीश मिश्रा ने बताया कि हेल्प एज की ओर से एडवांटेज कार्ड प्रोग्राम चलाया जाता है। इसमें बुजुर्ग या सिनीयर सिटीजन दवा, जनरल गुड्स आदि की खरीद पर छूट दी जाती है। यह एप इमरजेंसी में हेल्प के लिए उपयोगी होगा.  Read more http://inextlive.jagran.com/patna/

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s