इस होली पर खुद बन जाएं फूड इंस्पेक्टर

कुछ दिन बचे हैं रंगों के त्यौहार होली में और मार्केट में त्यौहारी असर दिखने भी लगा है। इन तैयारियों के साथ ही त्यौहारी मौसम में एक्टिव हो गए हैं मिलावट खोर। बावजूद इसके अब तक प्रशासन की ओर से मिलावटखोरों पर शिकंजा कसने के लिए अबतक कोई प्लैनिंग नहीं हुई है। इसलिए जरुरी है ऐसे में हम और आप प्रशासन के भरोसे न बैठ कर स्वयं जागरुक हों और इस होली खुद बन जाएं फूड इंस्पेक्टर। खासतौर पर होली के दौरान यूज होने वाले खोवा, दूध और पनीर की चेकिंग के लिए। इन चीजों की खरीदारी से पूर्व कुछ सामान्य जांच विधियों की मदद से आप अलर्ट हो सकते हैं और मिलावट वाले खाद्य पदार्थो से अपने परिवार को बचाकर सेफ होली कर सकते हैं सेलीब्रेट।

कर लें दूध में मिलावट की जांच

त्यौहारों के नजदीक आते ही दूध की खपत सबसे ज्यादा बढ़ जाती है। इसलिए दूध में कई तरह से मिलावट कर मिलावटखोर अपनी तो जेब भरते हैं लेकिन पब्लिक की सेहत से खिलवाड़ करते हैं। इसलिए जरुरी हैं ये जानना कि दूध में किस तरह होती है मिलावट.

– दूध में केवल पानी ही नहीं बल्कि कई तरह की चीजें मिलाई जाती हैं

– इसमें डिटर्जेट से लेकर यूरिया और वनस्पति तक शामिल है

– वनस्पति का इस्तेमाल दूध को ज्यादा चिकना करने के लिए किया जाता है

ऐसे करें पहचान

– आधा कप दूध में बराबर मात्रा में पानी मिलाएं। अगर उसमें झाग आए तो समझ जाएं कि उस दूध में डिटर्जेट मिला हुआ है

– सिंथेटिक दूध की पहचान करने का आसान तरीका है दूध को हथेलियों के बीच रगड़ें

– अगर यह साबुन जैसा लगे तो यह सिंथेटिक दूध हो सकता है

– इसके अलावा सिंथेटिक दूध गर्म करने पर हल्का पीला हो जाता है

– दूध में स्टार्च है या नहीं यह पता करने के लिए दूध में कुछ बूंदें आयोडीन टिंचर या आयोडीन सॉल्यूशन की डालें

– अगर दूध का रंग नीला हो जाए तो समझ लें कि इसमें स्टार्च है

– आयोडीन टिंचर आसानी से मेडिकल स्टोर पर मिल जाता है

– दूध में पानी की जांच करने के लिए दूध की कुछ बूंदें किसी सतह पर डालें.

– सतह को थोड़ा टेढ़ा करें। अगर दूध की बूंद धीरे धीरे ढलान की तरफ जाए और पीछे सफेद लकीर छोड़े तो इसमें पानी नहीं मिला है

– अगर दूध की बूंद तेजी से ढलान की तरफ फिसल जाए और पीछे निशान भी न छोड़े तो इसमें पानी मिला है

ऐसे करें पहचान

– खोवा पर फिल्टर आयोडीन की दो से तीन बूंदे डालें

– अगर यह काला पड़ जाए तो समझ लें कि यह मिलावटी है

– अगर चखने पर खोवा थोड़ा कड़वा और रवेदार महसूस हो तो इसमें वनस्पति घी मिला हो सकता है

– खोवा लेते वक्त उंगलियों में मसल कर देखें अगर यह दानेदार है तो यह मिलावटी हो सकता है

– खोवा की कुछ मात्रा को पानी में उबालें ठंडा होने पर इसमें कुछ बूंदें आयोडीन टिंचर की डाल दें। अगर मावे का रंग नीला पड़ जाए तो इसमें स्टार्च है

ऐसे करें पहचान

– पनीर को दो उंगलियों के बीच रगड़ लें

– अगर पनीर में दाने हो या फिर चिकनाहट ज्यादा हो तो ये गड़बड़ हो सकता है

– पनीर को महक से भी पहचाना जा सकता है

– ओरिजनल पनीर में महक दूध जैसी आती है Read more Varanasi News http://inextlive.jagran.com/varanasi/

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s