जगमोहन डालमिया दोबारा बनेंगे बीसीसीआई के चेयरमैन, कोई नहीं मुकाबले में जाने कौन हैं डालमिया

70 साल के डालमिया एन श्रीनिवासन गुट की ओर से प्रेसिडेंटशिप के उम्मीदवार थे. बंगाल क्रिकेट संघ के प्रेसिडेंट डालमिया इस पोस्ट के प्रबल दावेदार हैं, क्योंकि किसी और नाम पर सर्वसम्मति नहीं बन सकी. प्रेसिडेंटशिप नामांकन का समय संडे को दोपहर तीन बजे तक का था. लेकिन तब तक किसी और उम्मीदवार ने नामांकन नहीं किया. मंडे को बहुप्रतीक्षित वार्षिक आम सभा (एजीएम) में अन्य पदाधिकारियों का चुनाव होगा.

डालमिया का रास्ता इसलिए भी साफ हो गया, क्योंकि एक अन्य पूर्व अध्यक्ष शरद पवार को पूर्वी क्षेत्र से प्रस्तावक नहीं मिला. पूर्व क्षेत्र की सभी छह इकाइयां श्रीनिवासन गुट की समर्थक हैं. बीसीसीआइ सूत्रों ने कहा, ‘इस बार पूर्वी क्षेत्र की बारी थी इसलिए डालमिया के पास पूर्व से प्रस्तावक और अनुमोदनकर्ता दोनों थे.’ हालांकि पवार शनिवार को ही यहां पहुंच गए थे और उन्होंने अपने समर्थकों के साथ बैठक भी की. मजे की बात यह है कि दोनों गुट डालमिया को अपना उम्मीदवार बता रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के कारण श्रीनिवासन मजबूर होकर अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ सके. वह चुनाव प्रक्रिया के दौरान केवल मतदान कर पाएंगे. अदालत ने श्रीनिवासन की बीसीसीआइ अध्यक्ष और आइपीएल टीम मालिक के तौर पर हितों के टकराव की कड़ी आलोचना की थी.

तीन उपाध्यक्ष का भी विरोध नहीं
आंध्र प्रदेश के गोकाराजू गंगराजू (दक्षिण क्षेत्र), असम के गौतम राय (पूर्व क्षेत्र) और जम्मू-कश्मीर के एमएल नेहरू (उत्तर क्षेत्र) का निर्विरोध उपाध्यक्ष चुना जाना तय है. शेष दो उपाध्यक्ष पदों के लिए मध्य के ज्योतिरादित्य सिंधिया का मुकाबला सीके खन्ना से, जबकि पश्चिम के रवि सावंत का मुकाबला समरजीत सिंह गायकवाड़ से होगा.

पटेल को मिलेगी ठाकुर से चुनौती
सचिव पद के लिए श्रीनिवासन के वफादार वर्तमान सचिव संजय पटेल और भाजपा सांसद और हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर के बीच मुकाबला होगा. गोवा के चेतन देसाई को संयुक्त सचिव पद के लिए झारखंड क्रिकेट संघ के अमिताभ चौधरी का सामना करने के लिए चुना गया है. चौधरी श्रीनिवासन गुट के सदस्य हैं. कोषाध्यक्ष पद के लिए अनिरुद्घ चौधरी और कांग्रेस सांसद राजीव शुक्ला के बीच मुकाबला होगा.

जाने डालमिया की हिस्ट्री  

डालमिया इससे पहले 2001 से 2004 तक बीसीसीआइ अध्यक्ष रहे थे. वैसे उन्होंने इसके बाद 2013-14 में भी थोड़े समय के लिए अध्यक्ष पद का दायित्व संभाला था जब श्रीनिवासन आइपीएल स्पॉट फिक्‍सिंग मामले की जांच के चलते बीसीसीआइ अध्यक्ष पद से हटे थे. 1979 में बीसीसीआइ से जुडऩे के बाद वह कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे. 1997 में डालमिया आइसीसी के अध्यक्ष चुने गये थे.

कभी विकेटों के पीछे खड़ा रहने वाला एक नौजवान भारतीय क्रिकेट को अपने बूते बहुत आगे ले जाएगा, ये शायद ही किसी ने सोचा होगा. वो शख्स कोई और नहीं, बल्कि जगमोहन डालमिया हैं. क्रिकेट की दुनिया में जब भी बेहतरीन प्रशासकों की बात होती है तो पहला नाम यकीनन डालमिया का ही आता है. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) में लंबी पारी खेल चुके डालमिया एक बार फिर ‘बोर्ड के बॉस’ बन गए हैं, हालांकि इसकी ऑफीशियल आउंसमेंट मंडे को एन्युअल आम सभा (एजीएम) में होगी.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s